शनिवार , अगस्त 24 2019 | 03:34:44 AM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / जीमण 2019: लंदन की धरती पर दिखेगा राजस्थानी शान और संस्कृति का जलवा

जीमण 2019: लंदन की धरती पर दिखेगा राजस्थानी शान और संस्कृति का जलवा

जयपुर/ लंदन। राजस्थान की संस्कृति को विदेशी धरती पर भी संजोकर रखने वाली वाली संस्था राजस्थानी एसोसिएशन यूके की तरफ से हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी जीमण (जीमण 2019) कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है, यह आयोजन 23 जून को क्लेरमॉन्ट हाई स्कूल, केंटन लंदन में किया जाएगा। राजस्थान एसोसिएशन यूके की और से यह आयेाजन हर वर्ष 2016 से लगातार आयोजित किया जा रहा है। यह समारोह विदेशी धरती पर अपनी संस्कृति से जुडऩे का एहसास करवाता है और स्थानीय राजस्थानवासियों के लिए यह एक वार्षिक पर्व और उत्सव से कम नहीं है। जीमण समारोह को पूरी तरह राजस्थानी रंग में रंगने की पूरी कोशिश की जाती है, इस समारोह को सफल बनाने के लिए कार्यक्रम से जुड़े कार्यकर्ता पूरी ताकत से जुट जाते हैं और दिन रात कड़ी मेहनत करके कार्यक्रम को सफल बनाते हैं।

जड़ों से अवगत होते हैं युवा

इस दिन महिलाएं और पुरुष पूरी तरह राजस्थानी वेशभूषा पहनकर पहुंचते हैं और साथ ही राजस्थान के पारंपारिक संगीत और गानों पर नृत्य करते हैं। यह आयोजन देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि मानो आयोजन लंदन में नहीं बल्कि शूरवीरों की धरती राजस्थान में ही आयोजित हो रहा है। जीमण समारोह में सभी राजस्थानी पकवान बनाए जाते हैं। साथ ही वहां मौजूद बच्चों और युवा पीढ़ी के युवक युवतियों को उनके पुरखों और पिता की मातृभूमि के बारे में बताया जाता है, ताकि वह अपने पुरखों की मातृभूमि और जड़ों के बारे में जान सकें और उन्हें बताया जाता है कि किस तरह उनके बड़े बुजुर्ग एक महान धरती से संबंध रखते हैं। इसका उद्देश्य यह है कि ताकि युवा ऐसे विदेशी माहौल में रहकर भी यह अहसास कर सकें कि हमारी संस्कृति कितनी महान है और वह हमेशा अपनी मूल जड़ और देश और संस्कृति से जुड़े रहें।


अपनी संस्कृति पर गर्व करने का दिन

इस दिन युवा, महिलाएं, बच्चे, बड़े बुजुर्गों का एक अलग ही अंदाज देखने को मिलता है। सभी राजस्थानी पारंपारिक ड्रेस पहनकर पहुंचते हैं, सफारी, धोती कुर्ता, पगड़ी पहने युवाओं का एक शाही अंदाज दिखता है जबकि महिलाएं भी राजस्थान की पारंपारिक वेशभूषा में एक ठेठ राजस्थानी महिला की तरह मर्यादा, मान-सम्मान के साथ अपनी शानदार उपस्थिति दर्ज करवाती हैं। कार्यक्रम में हर तरफ बिखरे राजस्थानी रंग, आन बान और शान को देखकर हर कोई अपनी संस्कृति पर गौरवान्तित महसूस करता है।

450 से 1000 तक पहुँची मेहमानों की संख्या

संस्थान के मीडिया प्रभारी ने बताया कि यह एक ऐसा समारोह है जिसके दरवाजे सभी के खुले हैं, खुले मन से यहां सब आकर इस खुशी में शामिल हो सकते हैं। कार्यक्रम के बारे में उन्होंने बताया कि जब 2016 में इस कार्यक्रम का आयोजन पहली बार किया गया था इसका मूल मकसद यही था कि यहां बसे सभी राजस्थानियों को एक छत के नीचे लाया जा सके। लेकिन, इस आयोजन की लोकप्रियता इतनी बढ़ी कि हर कोई इस कार्यक्रम से जुडऩा चाहता है। इस आयोजन ने अब एक उत्सव का रूप ले लिया है, सभी इस आयोजन का हर वर्ष बेसब्री से इंतेजार करते हैं। 2016 में पहली बार इस आयोजन में 450 लोग शामिल हुए थे, जबकि 2018 में यह संख्या 1000 पहुंच गई।

1000 टिकट बिके, समारोह स्थल की क्षमता से ज़्यादा डिमांड

राजस्थान एसोसिएशन यूके कार्यक्रम से जुड़ी सभी जानकारियां और घोषणाएं अपने फेसबुक पेज से ही शेयर करते हैं। संस्थान की सोशल मीडिया प्रभारी शालिनी वाघेला का कहना है कि कार्यक्रम की घोषणा के बाद से ही 1000 टिकट बिक चुके हैं, जबकि सैकड़ों लोग इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए अपनी तरह से जोर आजमाइश कर रहे हैं, लेकिन, कार्यक्रम स्थल की क्षमता को देखते हुए हमने अब टिकट की बुकिंग रोक दी है। साथ ही शालिनी वाघेला ने यह भी कहा कि कार्यक्रम के प्रति लोगों का उत्साह देखते हुए आने वाले वर्ष कार्यक्रम स्थल के लिए बड़ी जगह लेने पर विचार किया जाएगा।

कई चरणों में होती है कार्यक्र्म की तैयारी

जीमण की तैयारियों को लेकर हरेंद्र सिंह जोधा ने बताया कि काफी समय से पहले ही आयोजन की तैयारियां शुरु हो जाती हैं। कार्यक्रम स्थल की क्षमता, लोगों के बैठने का इंतेजाम, खाने का मैन्यू, साफ सफाई, संगीत व्यवस्था, खाने का एरिया जैसी बड़ी और छोटी छोटी चीजों को लेकर कई चरणों में चर्चा कर तैयारियां की जाती हैं। जीमण कार्यक्रम की दूसरी वार्षिक पत्रिका का विमोचन भी इस अवसरा पर किया जाएगा।

आपको यह रिपोर्ट कैसी लगी, हमें बताएं। सरकारी और कॉरपरेट दवाब से मुक्त रहने के लिए
हमें सहयोग करें : -


* 1 खबर के लिए Rs 10.00 / 1 माह के लिए Rs 100.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 1100.00

Contact us

Check Also

पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी, नानाजी देशमुख और हजारिका भारत रत्न से सम्मानित

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, सामाजिक कार्यकर्ता  नानाजी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *