मंगलवार , अक्टूबर 22 2019 | 10:32:50 AM
Breaking News
Home / राज्य / राजस्थान / राजस्थानी आमजन को जोडऩे वाली भाषा -डॉ. कल्ला

राजस्थानी आमजन को जोडऩे वाली भाषा -डॉ. कल्ला

पत्रकार समाज का दर्पण-रघु शर्मा

जयपुर। उत्कृष्ट पत्रकारिता को समर्पित दैनिक जलतेदीप द्वारा स्थापित माणक अलंकरण का 36-37वां समारोह मंगलवार को जयपुर के पिंकसिटी प्रेस क्लब सभागार में सम्पन्न हुआ। जलतेदीप की स्वर्णिम 50वीं वर्षगांठ के पूर्व दिवस पर आयोजित माणक अलंकरण समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए प्रदेश के ऊर्जा एवं कला संस्कृति मंत्री डॉ. बीडी कल्ला ने कहा कि राजस्थानी ही ऐसी भाषा है जो आम व्यक्ति को आपस में जोडऩे का काम करती है। इस भाषा की मिठास समाज को एक सूत्र में पिरोने का काम करती है। डॉ. कल्ला ने कहा कि राजस्थान विधानसभा ने राजस्थानी भाषा को 8वीं सूची में शामिल करने के लिए एक संकल्प पारित करके 16 वर्ष पूर्व ही केन्द्र सरकार को भिजवा दिया था। अब केन्द्र में भाजपा सरकार है इसलिए नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद जी कटारिया राजस्थानी भाषा को मान्यता दिलाने के लिए केन्द्र सरकार के समक्ष राज्य का सर्वदलीय शिष्टमंडल लेकर जाए ताकि राजस्थानी भाषा को मान्यता मिल सके। डॉ. बीडी कल्ला ने राजस्थान की पत्रकारिता को उच्च मापदंडों पर आधारित बताते हुए कहा कि राजस्थान के पत्रकारों ने निष्पक्ष और निर्भिक पत्रकारिता की है और यहां के पत्रकारों ने सरकार व जनता के बीच एक सेतु का काम किया है। खासकर छोटे और मध्यम अखबारों ने आमजन की समस्याओं को सरकार के सामने लाने का काम कर एक दर्पण की भूमिका निभाई है।


डॉ. कल्ला ने दैनिक जलतेदीप की चर्चा करते हुए कहा कि इस समाचार पत्र में स्वस्थ पत्रकारिता के मापदंडों का बखूबी से पालन किया है। यह समाचार पत्र 50 वर्ष में पत्रकारिता की एक प्रयोगशाला बन गया है जिसने श्रेष्ठ पत्रकारिता को बढ़ावा दिया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को आना था, लेकिन वे कांग्रेस के गांधी जी पर विशेष आयोजन में व्यस्त रहने के कारण आ नहीं पाए। डॉ. शर्मा ने मुख्यमंत्री के द्वारा दिया गया संदेश पढ़कर कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम की सफलता के लिए शुभकामनाएं भेजी है।


प्रदेश के सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कार्यक्रम के विशिष्ठ अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए कहा कि आज के समय में पत्रकारिता के समक्ष अनेक चुनौतिया है और इस समय जलतेदीप हर चुनौती को स्वीकार कर श्रेष्ठ पत्रकारिता के मापदंडों को अपना रहा है। उन्होंने कहा कि राजस्थान के पत्रकारों ने हमेशा सकारात्मक पत्रकारिता को महत्व दिया है और यह राजस्थान के लिए गर्व की बात है कि इस प्रदेश के पत्रकार स्वच्छ, स्वतन्त्र, निष्पक्ष एवं निर्भिक पत्रकारिता अपनाते है। जनसंपर्क मंत्री ने कहा है कि राजस्थान सरकार पत्रकारों की समस्याओं को हर संभव हल करने की कोशिश में है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पत्रकारों के अधिकारों को संरक्षित करने के लिए कटिबद्ध है। पत्रकारों को सरकार व समाज की हर बात को निष्पक्षता के साथ आम जन के सामने लाना चाहिए।


राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि राजस्थानी भाषा को मान्यता देना आवश्यक है चाहे केन्द्र में किसी भी पार्टी की सरकार रही हो, उन्होंने अभी तक राजस्थानी भाषा को मान्यता देने के लिए गंभीरता नहीं दिखाई। अब राजस्थानी भाषा को मान्यता दिलाने के लिए मिलकर प्रयास करने की आवश्यकता है। श्री कटारिया ने इस अवसर पर कहा है कि राजस्थान के पत्रकारों ने समय-समय पर जनहित के मुद्दे उठाकर आमजन के हितों की रक्षा की है। साथ ही, सरकार को भी एक आईना दिखाने का काम किया है। श्री हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति ओम थानवी ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि पत्रकारों को हिन्दी में उन शब्दों का प्रयोग करना चाहिए जिसे सामान्य पाठक समझ सकें। क्लिष्ट और कठिन शब्द हिन्दी को सामान्य पाठक से अलग लाकर खड़ा करते है। महात्मा गांधी ने भी आमजन की भाषा को हिन्दी में शामिल करने पर जोर दिया था।


समारोह के प्रारंभ में अपने स्वागत भाषण में दैनिक जलतेदीप एवं मासिक माणक के प्रधान संपादक पदम मेहता ने कहा कि प्रदेश के लघु एवं मध्यम समाचार पत्रों तथा पत्रकारों को वर्तमान के विपरीत वातावरण के मध्यनजर तत्काल सरकार का सहयोग व संरक्षण जरूरी है। उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द राजस्थानी भाषा को संवैधानिक मान्यता दी जानी चाहिए। राजस्थानी भाषा को पाठ्यक्रम में शामिल कर प्रदेश की सरकारी भर्तियों में राजस्थानी भाषा का ज्ञान होना अनिवार्य किया जाए। प्रदेश में द्वितीय राजभाषा का दर्जा तथा प्राथमिक शिक्षा के साथ हर स्तर पर राजस्थानी को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए।


समारोह में माणक अलंकरण चयन समिति द्वारा पूर्व में घोषित निर्णयानुसार वर्ष 2017 का ‘माणक अलंकरण’ दैनिक भास्कर जोधपुर के वरिष्ठ पत्रकार मनीष बोहरा एवं वर्ष 2018 का ‘माणक अलंकरण’ दैनिक भास्कर जोधपुर के उपमुख्य संवाददाता मनोज कुमार पुरोहित को प्रदान किया गया। इसी कड़ी में माणक अलंकरण के वर्ष 2017 के लिए चार विशिष्ठ पुरस्कारों में जनसंपर्क निदेशालय के पूर्व उपनिदेशक (समाचार) प्रभात गोस्वामी (जनसंपर्क श्रेणी), छायाकार-कार्टूनिस्ट श्रेणी में राजस्थान पत्रिका जोधपुर के छायाकार गिरधारीलाल पालीवाल, विशिष्ट पुरस्कार (इलेक्ट्रॉनिक मीडिया) डीडी राजस्थान, जयपुर के वीरेन्द्र परिहार तथा विशिष्ट पुरस्कार (जलतेदीप समूह) गौतम सुराणा को दिया गया। इसी प्रकार वर्ष 2018 के लिए चार विशिष्ट पुरस्कारों में मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर के पूर्व जनसंपर्क अधिकारी डा.रमेश कुमार रावत (जनसंपर्क श्रेणी) छायाकार-कार्टूनिस्ट श्रेणी में दैनिक भास्कर, जोधपुर के छायाकार विकास बोड़ा, विशिष्ट पुरस्कार (इलेक्ट्रॉनिक मीडिया) श्रेणी में फर्स्ट इंडिया न्यूज जयपुर के ब्यूरो प्रमुख योगेश शर्मा को व विशिष्ट पुरस्कार (जलतेदीप समूह) जोधपुर के अश्विनी व्यास को दिया गया।
इस कार्यक्रम की खास बात यह रही कि कार्यक्रम हिन्दी के साथ राजस्थानी भाषा में संचालित हुआ और अधिकांश अतिथियों ने अपने विचार राजस्थानी भाषा में ही प्रकट किए। कार्यक्रम में भाग लेने मोटियार परिषद के पदाधिकारियों ने राज्य के विभिन्न भागों से आकर भाग लिया और मुख्य अतिथि को ज्ञापन दिया व उनका सम्मान किया।
‘माणक’ मासिक के संपादक पदम मेहता ने इस अवसर पर बताया कि राजस्थान के माध्यमिक विद्यालयों के पुस्तकालयों में प्रवासी राजस्थानियों के सहयोग से ‘माणक’ के सजिल्द सैट भेंट कराने का प्रयास किया जा रहा है ताकि छात्र-छात्रायें व शिक्षक राजस्थानी भाषा-साहित्य के इस खजाने से रूबरू हो सके। इसी श्रृंखला में न्यूयॉर्क (अमेरिका) में बसे समाजसेवी व प्रवासी राजस्थानी हरिदास कोटावाला की ओर से जयपुर जिले के बीस माध्यमिक विद्यालयों के पुस्तकालयों के लिए सजिल्द सैट भेंट किए गए है।
समारोह के प्रारंभ में अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलन कर मां सरस्वती व दैनिक जलतेदीप के संस्थापक संपादक स्व. श्री माणक मेहता की तस्वीर पर पुष्पांजलि अर्पित की। मंच का संचालन सुप्रसिद्ध उद्घोषिका डॉ. ज्योति जोशी ने किया। माणक अलंकरण के प्रशस्ति पत्र का वाचन जोधपुर से पधारे उद्घोषक जफर खान सिंधी ने अपनी जादुई आवाज में किया। अंत में जलतेदीप के प्रबंध संपादक दीपक मेहता ने सभी आगन्तुको का आभार प्रकट किया।

आपको यह रिपोर्ट कैसी लगी, हमें बताएं। सरकारी और कॉरपरेट दवाब से मुक्त रहने के लिए
हमें सहयोग करें : -


* 1 खबर के लिए Rs 10.00 / 1 माह के लिए Rs 100.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 1100.00

Contact us

Check Also

ढूढ़ाढ़ री ललकार का स्थापना दिवस समारोह सम्पन्न

सम्मानित होने वाली प्रतिभाओ को ढूढ़ाढ़ रा गौरव सम्मान से किया सम्मानित जयपुर। ढूढ़ाढ़ री …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *