मंगलवार , अक्टूबर 22 2019 | 10:23:44 AM
Breaking News
Home / राज्य / दिल्ली / शिक्षा में क्रांति की आवश्यकता-डॉ. वेदप्रताप वैदिक

शिक्षा में क्रांति की आवश्यकता-डॉ. वेदप्रताप वैदिक

आर्थिक आधार पर शिक्षा-संस्थाओं में आरक्षण स्वागत योग्य है। वह दस प्रतिशत क्यों, कम से कम 60 प्रतिशत होना चाहिए और उसका आधार जाति या कबीला नहीं होना चाहिए। जो भी गरीब हो, चाहे वह किसी भी जाति, धर्म या भाषा का हो, यदि वह गरीब का बेटा है तो उसे स्कूल और काॅलेजों में प्रवेश अवश्य मिलना चाहिए। किसी भी अनुसूचित जाति या जनजाति या पिछड़े वर्ग का कोई बच्चा शिक्षा से वंचित नहीं रहना चाहिए। वह यदि मलाईदार परत का नहीं है तो भी उसे उत्तम शिक्षा पाने से कौन रोक सकता है ? कम से कम 10 वीं कक्षा तक के छात्रों के दिन के भोजन, स्कूल की पोशाक और जिन्हें जरुरत हो, उन्हें छात्रावास की सुविधाएं मुफ्त दी जाएं तो दस वर्षों में भारत का नक्शा ही बदल जाएगा। ये सब सुविधाएं देने के पहले सरकार को गरीब की अपनी परिभाषा को ठीक करना पड़ेगा। सवर्णों के वोट पटाने और उन्हें बेवकूफ बनाने के लिए 8 लाख रु. सालाना की जो सीमा रखी गई है, उसे सिकोड़कर सच्चाई के निकट लाना होगा। उसे आधा या एक-तिहाई करना होगा।
यदि यह किया गया तो सबसे पहले यह होगा कि जो करोड़ों बच्चे अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ भागते हैं, वे नहीं भागेंगे। मैट्रिक तक पहुंचते-पहुंचते वे बहुत से हुनर सीख जाएंगे। यदि उन्हें पढ़ाई छोड़नी पड़ी तो भी वे इतने हुनरमंद बन जाएंगे कि उन्हें अपने रोजगार के लिए किसी प्रधान सेवक के हवाई वायदों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। यह तभी होगा जबकि मैकाले की शिक्षा पद्धति को तिलांजली दी जाए। बच्चों को रट्टू तोता बनाने की बजाय हुनरमंद बनाया जाए। उन्हें उनकी मातृभाषा में ही सारे विषय पढ़ाए जाएं। उन पर अंग्रेजी या कोई भी अन्य विदेशी भाषा थोपी न जाए। 10 वीं कक्षा तक किसी भी विदेशी भाषा की अनिवार्यता पर प्रतिबंध होना चाहिए। जो स्वेच्छा से सीखना चाहें, वे जरुर सीखें। देश में एक भी बच्चा अशिक्षित नहीं रहना चाहिए।
देश में चल रही समस्त निजी शिक्षा-संस्थाओं के पाठ्यक्रमों और फीस पर नियंत्रण रखने के लिए एक उत्तम शिक्षा-आयोग बनाया जाए। आज देश के निजी अस्पताल और स्कूल-कालेज लूट-पाट के सबसे बड़े अड्डे बन गए हैं। उनका लक्ष्य एक सबल, संपन्न और समतामूलक भारत का निर्माण करना नहीं है बल्कि सिर्फ पैसा बनाना है।
यदि भारत की शिक्षा-संस्थाओं में शरीर और चरित्र, दोनों की सबलता पर भी जोर दिया जाए तो भारत को अगले एक दशक में हम दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्रों की पंक्ति में खड़ा कर सकते हैं। शिक्षा में क्रांति के आधार पर ही अमेरिका दुनिया का सबसे शक्तिशाली राष्ट्र बना है। भारत की शिक्षा में विज्ञान और तकनीक के शोध-कार्यों पर जोर दिया जाए और वह शोध स्वभाषाओं में किया जाए तो भारत के प्रतिभाशाली युवक अपने देश को बहुत आगे ले जा सकते हैं।
एएनएस समाचार/सुभाष चंद गोयल/ विद्या नन्द मिश्रा
आपको यह रिपोर्ट कैसी लगी, हमें बताएं। सरकारी और कॉरपरेट दवाब से मुक्त रहने के लिए
हमें सहयोग करें : -


* 1 खबर के लिए Rs 10.00 / 1 माह के लिए Rs 100.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 1100.00

Contact us

Check Also

वीवी प्रो कबड्डी में दिल्ली ने बेंगलुरू को हराया

दिल्ली, 24 अगस्त (एएनएस)।   त्यागराज स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में शनिवार को वीवी प्रो कबड्डी सीजन-7 को खेले …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *