शनिवार , अगस्त 24 2019 | 03:20:53 AM
Breaking News
Home / राज्य / दिल्ली / किसानों की खुशहाली ही देश की समृद्धि : डॉ. बलवान सिंह

किसानों की खुशहाली ही देश की समृद्धि : डॉ. बलवान सिंह

नई दिल्ली (एएनएस)। दूर दृष्टि, कड़ी मेहनत और पक्का इरादा जब मन में हो तो रास्ते खुद ब खुद बनने लगते है, इन पंक्तियों को चरितार्थ किया है, दिल्ली के बवाना गांव में एक सामान्य परिवार से ताल्लुक रखने वाले बलवान सिंह ने। बलवान सिंह से डॉ. बलवान सिंह बनने का ये सफर जमीं से आसमां तक की दूरी नापने जैसा मुश्किल था, लेकिन बलवान सिंह अपने इस सफर में बिना रुके निरंतर अग्रसर होते रहे। विषम परिस्थितियों में शिक्षा प्राप्त करते हुए लैक्चरार बनने तक के इस सफर में बलवान सिंह ने वह सब महसूस किया जो एक गरीब और असहाय परिवार महसूस करता है। लेकिन बलवान सिंह ने अपनी इस सफलता के लिए कभी गरीबी को आड़े नहीं आने दिया, ना ही कभी सफलता के बाद अहंकार किया। अपनी रोजी-रोटी चलाते हुए डॉ. बलवान सिंह ने निरक्षरता को दूर करने के लिए लोगों को शिक्षित करना शुरू किया। इसके साथ ही लोगों को प्राकृतिक चिकित्सा और योग के माध्यम से निरोग करने का बीड़ा उठाया और जरूरतमंदों का मुफ्त इलाज करते हुए लोगों को निरोग किया। लोगों को योग और प्राकृतिक चिकित्सा को अपने जीवन में आत्मसात करने के लिए प्रेरित किया। लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने की इस मुहीम ने सैकड़ों परिवार को स्वस्थ जीवन का तोहफा दिया। डॉ. बलवान सिंह ने कभी शिक्षक, कभी चिकित्सक तो कभी योग गुरु के रूप में समाज सेवा करते हुए समाज के हर वर्ग के लोगों को लाभान्वित किया, समाजसेवा का यह सिलसिला आज भी जारी है।

हालांकि मौजूदा वक्त में देश की हालात को देखते हुए डॉ. बलवान सिंह देश की समृद्धि के लिए सोचने पर मजबूर हैं कि देश कैसे समृद्ध हो, देश का किसान और मजदूर कैसे खुशहाल हों। इसके लिए उनकी समस्याओं का समाधान होना जरूरी है, और इन सबकी समस्याओं का समाधन भी उन्हीं के बीच छुपा है – जैसे कृषि सम्बंधित समस्याओं का समाधान किसानों और खेतों में मजदूरी कर रहे मजदूरों के पास है। व्यापार से सम्बंधित समस्याओं का समाधान व्यापारी वर्ग के पास है। लेकिन सबसे बङ़ी विड़म्बना ये है कि आज संबंधित क्षेत्रों में काम करने वालों को कोई पूछता ही नहीं है, इनके लिए बबने वाली योजनाएं भी वो लोग बनाते हैं जो हकीकत तो दूर, कभी सपने में भी इन क्षेत्रों में नहीं आते। देश को समृद्ध व खुशहाल बनाना है तो उन लोगों को आगे आना होगा, जो कृषि जैसे क्षेत्र की समस्याओं को समझने के लिए कृषि क्षेत्र में काम रहे लोगों के बीच जाए, उनकी समस्याओं को जाने और उन्हीं लोगों से उनके समाधान भी पूछे दोनों को बेहतर तरीके से समझ कर सरकार तक पहुंचाए और उन तमाम समस्याओं से उन्हें निजात दिलवाए।

इस कार्य को आगे बढाने के लिए अब बलवान सिंह खुद आगे आ रहे हैं क्योंकि सिंह का मानना है कि देश से बढ़कर कुछ नहीं, देश बढ़ेगा तो समाज बढ़ेगा और समाज में मौजूद लोग बढ़ेंगे तभी देश में हर तरफ खुशहाली दिखेगी। अब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विचारों से प्रभावित होकर बलवान सिंह ने स्वच्छता, शिक्षा, चिकित्सा और योग के माध्यम से समाजसेवा व देश हित में बहुत काम किया है। लेकिन बलवान सिंह अब बड़े और व्यापक स्तर पर कार्य करने के लिए एक ऐसे भारत का निर्माण करना चाहते है – जहाँ न भय हो- न भूख हो न – भेदभाव हो सभी स्वस्थ हों, सभी समृद्ध हों।
इसलिए डॉ. बलवान सिंह अब किसानों और व्यापारियों की समस्यायों पर ध्यान केंद्रित करते हुए देश में बढ़ती किसानों की आत्महत्याओं को रोकने और कृषि जगत की उन्नती में बाधक बने उन सभी समस्याओं को दूर करने का प्रयास करने के लिए दिल्ली के नरेला क्षेत्र से एक खास अभियान शुरू करेंगे। ताकि किसानों के साथ-साथ छोटे एवं मंझोले उद्योग की समस्याओं के समाधान के लिए सरकार तक उनकी बात पहुंचाई जाए और देश की समृद्धि का रास्ता निकाला जा सके।
एएनएस समाचार/राजेश शर्मा/विद्या नन्द मिश्रा

आपको यह रिपोर्ट कैसी लगी, हमें बताएं। सरकारी और कॉरपरेट दवाब से मुक्त रहने के लिए
हमें सहयोग करें : -


* 1 खबर के लिए Rs 10.00 / 1 माह के लिए Rs 100.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 1100.00

Contact us

Check Also

योग एवं आयुर्वेद विश्व को भारत की अमूल्य देन है।

नई दिल्ली। बीकानेर हाउस दिल्ली में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया, इस अवसर पर बीकानेर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *