शनिवार , नवम्बर 23 2019 | 02:05:30 AM
Breaking News
Home / राज्य / दिल्ली / नए आंगनवाड़ी केंद्र खोलने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करें केंद्र: ममता भूपेश

नए आंगनवाड़ी केंद्र खोलने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करें केंद्र: ममता भूपेश

नई दिल्ली। नई दिल्ली के होटल अशोका में गुरुवार को आयोजित पोषण अभियान के अंतर्गत भारत की पोषण चुनौतियों पर गठित राष्ट्रीय परिषद की बैठक में राजस्थान की महिला एवं बाल विकास मंत्री(स्वतंत्र प्रभार) ममता भूपेश ने केंद्र सरकार से मांग करते हुए कहा कि राजस्थान की भौगोलिक दृष्टि को ध्यान में रखते हुए केंद्र करीब 2000 अतिरिक्त आंगनवाड़ी केंद्र खोलने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करें। उन्होंने कहा कि राजस्थान में दूरदराज के इलाकों में बच्चों, माताओं और किशोरियों के शारीरिक एवं मानसिक विकास के लिए आंगनवाड़ी केंद्रों का स्थापित किया जाना अति महत्वपूर्ण है।


श्रीमती भूपेश ने कहा कि राजस्थान के कई आंगनवाड़ी केंद्र या तो पुराने भवनों में चल रहे हैं या किराए के भवनों में संचालित किए जा रहे हैं। उन्होंने केंद्र सरकार से आग्रह किया कि किराए के भवनों में चल रहे आंगनबाड़ी केंद्रों के नए भवन बनाने के लिए वित्तीय सहायता तथा स्वीकृति प्रदान की जाए ताकि इन आंगनवाड़ी केंद्रों को आधुनिक तौर-तरीके से अपने भवनों में संचालित किया जा सके। महिला एवं बाल विकास मंत्री ने कहा कि आंगनवाड़ी केंद्रों में दिए जाने वाले पोषाहार को और अधिक पोषक और बच्चों और किशोरियों, माताओं की जरूरत के अनुसार तैयार किया जाना चाहिए, इसके लिए इंटर स्टेट ग्रुप्स बनाए जाएं ताकि सभी राज्य एक- दूसरे की पोषाहार प्रक्रिया परिचित हो सकें तथा हर राज्य नवाचारों को अपने राज्य में उपयोग में ला सके। इससे आंगनबाड़ी केंद्रों के पोषाहार को और अधिक उच्च गुणवत्ता युक्त बनाया जा सकेगा।

बैठक के बाद श्रीमती भूपेश ने कहा कि राजस्थान में आंगनवाड़ी केंद्रों के आधुनिकरण के लिए राज्य सरकार निरंतर प्रयास कर रही है उन्होंने बताया कि अभी तक 21430 आंगनवाड़ी कार्यकर्ता को मोबाइल फोन वितरित किए जा चुके हैं ताकि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पोषण अभियान से जुड़े सभी लक्ष्यों को प्राप्त करने में डिजिटल प्लेटफॉर्म का उपयोग कर सकें। उन्होंने बताया कि सभी आंगनवाड़ी केंद्रों पर पोस मशीन रखवाई जाएंगी, ताकि पोषाहार वितरण तथा बच्चों की उपस्थिति के संबंध में व्यवस्था को पारदर्शी बनाया जा सके।बैठक में राजस्थान के महिला एवं बाल विकास विभाग के सचिव के. के. पाठक भी उपस्थित रहे।

आपको यह रिपोर्ट कैसी लगी, हमें बताएं। सरकारी और कॉरपरेट दवाब से मुक्त रहने के लिए
हमें सहयोग करें : -


* 1 खबर के लिए Rs 10.00 / 1 माह के लिए Rs 100.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 1100.00

Contact us

Check Also

डॉ. सुमहेन्द्र की स्मृति में समसामयिक चित्रकला शिविर एवं परिचर्चा 4 नवम्बर से

जयपुर। कलावृत्त (एक रचनात्मक कलाकार मंच) और स्नेहा आर्ट गैलरी, हैदराबाद के सयुक्त तत्वाधान में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *